मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
3 अक्तूबर, 1957 से विविध भारती के स्थापना दिनसे ही रेडियो सुनने की शुरूआत । ८ साल की उम्रसे ।

बुधवार, 28 दिसंबर 2011

वरीष्ठ उद्दघोषक श्री गोपल शमाजी को जनम दिन की बधाई और उनसे मेरी भेट का दृष्यांकन

इस रेकोर्डींग को देख़ते सुनते किसी और के बताये बिना ही मेरे ध्यानमें मेरी एक गलती आयी है कि मैनें श्री गोपाल शर्माजी की अत्मकथा के लिये गलती से ओटोबायोग्राफ़ी की जगह बायोग्राफ़ी शब्द इस्तेमाल किया है । पर भले शर्माजीने मूझे उस समय सुधारना ठीक़ नहीं समझा होगा । वैसे उनकी भाषा पर काबू का कोई जवाब नहीं है । और तीसरी बात इस रेकोर्डिंगमें केमेरा मेन यानि विडीयोग्राफर , लाईट मेन , सेट मास्तर और इन्टरव्यूअर और बाद्में सम्पादक की पाँचो भूमीकाएँ मूझसे जैसे बनाया पडा, निभाई है । तो मूल रेकोर्डिं सही होने पर भी सम्पादन के दौरान कहीं विडीयो की गुणवत्ता नीचले हिस्सेमें कहीं कहीं थोड़ी सी ठीक नहीं आयी है । तो इसके लिये क्षमा प्रार्थी हूँ । और इस निर्धारीत समय मर्यादामें काम निपटाने के लिये थकान तो होनी ही थी ।
आज यानि दि. 28-दिसम्बर के दिन रेडियो प्रसारण के एक महत्व पूर्ण पायोनियर श्री गोपाल शर्माजी की जनम तारीख़ है, तो
इस अवसर पर उनको जनम दिन की रेडियोनामा की और से शुभ: कामनाएँ देते हुए मेरी हाल ही की मुम्बई यात्रा के दौरान दि. 19 के दिन उनके बुलावे पर उनक्रे धर की गई उनके केरियर के बारेमें वातचीत को आप सुन ही नहीं पर देख़ भी पायेंगे, जो अवसर आज से तीन साल पहेले वहाँ की लोकल ट्रेईन्स की गरबडीयों के कारण खो दिया था । जो चार भागोमें बाँटना पडा है । शायद दूसरा भाग आप देख़ नहीं पाये तो इसका ऑडियो भी रख़ा जायेगा । यहाँ एक और बात बता दूँ, कि दि. 21 दिसम्बर के दिन श्री अमीन सायानी साहब को सुरत में गैरहाज़री के कारण उनको इस मंच से बधाई नहीं दे पाया पर उनको उसी दिन उनके कार्यालय जा कर बधाई देनेका सुनहरी मोका मिला ।(यह पोस्ट को आज यानि 28 दिसम्बर, 2013 के दिन सधार कर जो अलग अलग पार्ट्स में विडीयो रख़े थे इन के बदले लम्बे विडीयो की सुविधा मिलने पर एक ही विडीयो को लगा कर पुराने विडीयोको हटाया गया है ।)


पियुष महेता ।
सुरत ।

3 टिप्‍पणियां:

  1. Gopal Sharmaji is a legend. May lord bless him with many many more Janmdin. Thank you Piyushji for this post.
    _ R.Mukund, BELLARY, KARNATAKA.

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपके जूनून को शत शत प्रणाम पियूश जी . रेडियो के ये सितारे टीवी की चमक में कही खो गए है . इनके पास यादों का खजाना है. समय है की इनको बटोर लिया जाये .... नयी पीढ़ी के लिए .

    उत्तर देंहटाएं
  3. गोपालजी को हमारी शुभकामनायें प्रेषित करें .

    उत्तर देंहटाएं